Saturday, April 11, 2015

चिमनिया




उग आयी है चिमनिया चारो ओर
गुरुता का गुरुर है इनमे
ये अट्टाहास लगाती है
छिन लेती हैं मिट्टी की चिर-परिचित गंध 
सुलगती हैं 
उगलती है गहरा काला कोहरा 
सिकुड़ता जाता है नीला आकाश
और
हवा की साँसे घुटती चली जाती है

No comments: