मैं और मेरी दुनिया

एक मुसाफिर के सफ़र जैसी है सबकी दुनिया

Wednesday, October 1, 2014

था एक धनुर्धर राम

सूर्य-प्रभ-सम आलोकित,
वह वीर धनुर्धर था अद्भुत,
रावण-तम का संहार किया,
पुरुषोत्तम जग में कहा गया .

      xxxxxxxxx



शर- संधान करो तुम
तम जन-मन का हरो तुम
माया मृग फिर छलने आया
अब तो हुंकार भरो तुम

     





Labels: ,

0 Comments:

Post a Comment

Subscribe to Post Comments [Atom]

Links to this post:

Create a Link

<< Home